“संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !”

संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !
Jai Shree Ram

संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !

“संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !” यह एक कथन है जिसे लंका मे सीता ने कही थी ! यानी रामायाण की है ! सीता ने यह बात उस समय कही थी जब रावण सीता को बध करने मे असफल होकर फिर एक महीने का समय देकर चला जाता है ! रावण और मन्दोदरी के चले जाने के बाद सीता रोने लगती है ! उसकी सेविका त्रिजटा से कहती है – त्रिजटा वास्तव मे तुम मेरी सेवा करना चाहती हो तो कुछ लकड़ियॉ लाकर मेरे लिए एक चिता बना दो और उसमे आग लगा दो !




राम के विरह की ज्वाला से चिता की ज्वाला शीतल होगी ! त्रिजटा उसे धीरज बँधाती हुई कहती है कि प्रभु रामचंद्र उसे जल्दी ही उद्धार अवशय करेंगे ! त्रिजटा सीता को विश्राम करने को कहकर स्वयं भी शीता की आज्ञा से सोने के लिए चली जाती है ! जब सीता अकेली रह गई तो वह अपने ह्रदय की आवेग को इस प्रकार प्रकट करती है ! इस समय उसके कारण प्रभु रामचंद्र कि कैसी दशा हुई सोचने लगती है ! वह मन ही मन राम से क्षमा मॉगती है !

सीता अपने को भयानक अपराधी समझती है ! क्योकि वह हठ करके कंचन मृग का चर्म क्यो मॉगा थ? मेरे हठ के कारण लक्ष्मण को रक्षा का भार सौपकर तीव्र गति से कंचन मृग के पीछे दौड़े ! सीता सोचती है – संसार के लोग जिस प्रभु रामचंद्र को पाने के लिए पीछे-पीछे दौड़ते है, उसी प्रभु रामचंद्र कंचन मृग के पीछे दौड़ने लगे – मेरे ही कारण ! ओह प्रभु ! तुम कैसे हो और मै कैसी हुँ ! इस प्रकार की बाते सोचकर सीता अपने को कोसती है !



अगर आपको ये लेख पढ़कर अच्छा लगा है या यहॉ से कुछ भी शिखा है तो कृपया हमारे वेब्साईट को Subscribe करिये ! और FACEBOOK पर LIKE करिये, Niche Comment Box Me Comment करिए ! Aur apne Friends ke Saath Share kariye.

 

You May Also Like




Suraj Barai

Hey ! I am Suraj Barai. I hope this Article is Helpful. Please Subscribe and Follow us on Social Networks. Oh ! Have a question? Contact me..

Enter Your Email Address:

For complete the subscription please confirm the email in your email inbox

No Thoughts on “संसार जिनके पीछे दौड़ता है ! वे मेरे प्रभू कंचनमृग के पीछे दौड़े !”

Leave A Comment

x

Sign Up Hindi Me Shiksha

Get Updates Via Email In Your Email Inbox.

We respect your privacy.